Shahar ki Khasta Haal Sadke “शहर में खस्ता हाल सड़कें  ” Hindi Essay 200 Words, Best Essay, Paragraph, Anuched for Class 8, 9, 10, 12 Students.

शहर में खस्ता हाल सड़कें  

Shahar ki Khasta Haal Sadke

लाल किले को रिंग रोड़ से जोड़ने वाली सड़क खस्ता हाल है। इसे बने हुए अभी छह महीने भी नहीं हुए हैं पर इसमें कई जगह पाँच-छह इंच के गड्ढे पड़ गए हैं। कई जगह से कई-कई फुट टूट गई है। ऐसा लगता है जैसे इसे बने हुए कई साल हो गए हैं। खस्ताहाल सड़क पर वाहनों की संख्या अधिक नहीं है। दिनभर में चार-पाँच सौ गाड़ियों से अधिक नहीं निकलती होगी। इससे यह बात पुख्ता होती है कि यह सड़क भारी यातायात की आवाजाही के कारण नहीं ट्टी है। लगता यह है कि इसके निर्माण में बेहद घटिया सामग्री का इस्तेमाल किया गया है। इसमें नगर निगम के तय पैमाने के मुताबिक रोड़ी नहीं डाली गई है और न ही तारकोल बिछाया गया है। बस सड़क की लीपापोती की गई है। कहा तो यह भी जा रहा है कि यह तो बिना बने ही ठीक थी। इस सड़क पर पैदल यात्री और साइकिल यात्री आते-जाते हैं। खराब सड़क होने के कारण कई रिक्शा चालक खुद भी घायल हुए हैं और सवारी को भी जख्मी कर चुके हैं। देखते हैं कब इस सड़क के दिन संवरने वाले हैं।

 

Leave a Reply