Hindi Essay on “Mere Pitaji”, “मेरे पिताजी”, for Class 5, 6, 7, 8, 9 and Class 10 Students, Board Examinations.

मेरे पिताजी

Mere Pitaji

निबंध नंबर :- 01

फूल, पत्ते और टहनियाँ जैसे पेड़ पर निर्भर रहती हैं, वैसे ही हम बच्चे भी पूरी तरह अपने माता-पिता पर आश्रित हैं। हमारे पिता हमारे घर के संचालक हैं। वे अपने बच्चों की सभी जरूरतों का, उनके घूमने-फिरने, उनकी पढ़ाई  का पूरा ध्यान रखते हैं।

मेरे पिताजी इंजीनियर हैं। वे सरल स्वभाव के विनम्र व्यक्ति हैं। वे बड़ेबड़े शहरों में पुल बनाते हैं, परंतु उन्हें अपनी सफलता का घमंड नहीं है। देर रात तक चश्मा पहने और कमीज के बाजु मोड़े, वे नक्शे बनाते हैं। मैं भी। उनके साथ अपनी कुरसी पर जमकर भारत के नक्शों में रंग भरता हूँ।

मेरे पिताजी एक मित्र की भांति मेरे साथ बहुत शरारतें भी करते हैं। वे अपने ऊँचे कंधों पर बिठाकर मुझसे पेड़ से अमरूद तुड़वाते हैं। रविवार को हम मिलकर उनकी गाड़ी धोते हैं। उन्हें मेरे साथ बारिश में भीगना भी बहुत अच्छा लगता है। कितने भी व्यस्त क्यों न हों, मेरे पिताजी हर रविवार हमें घुमाने अवश्य ले जाते हैं।

मेरे जन्मदिन पर उन्होंने मेरे विद्यालय आकर मुझे चौंका दिया। वे मेरे सभी मित्रों के लिए उपहार भी लाए थे।

मैं भी बड़ा होकर अपने पिताजी की तरह आगे बढ़ना चाहता हूँ। मेरे पिताजी मेरे आदर्श हैं।

निबंध नंबर :- 02

मेरे पिता

Mere Pita

मेरे पिता एक सरकारी कर्मचारी हैं। वह प्रातः साढ़े आठ बजे घर से चले जाते हैं और सायं छः बजे वापिस आते हैं। सप्ताह में उनके पांच कार्य दिवस होते हैं। शनिवार एवं रविवार को उनका अवकाश होता है।

अवकाश के दिन कभीकभी वह हमें पिकनिक पर एवं घुमाने ले जाते हैं। पिछले रविवार वह हमें सर्कस दिखाने ले गये। जहाँ हमें बहुत मज़ा आया।

वह सुबह जल्दी उठ जाते ६ हैं एवं नियमित रूप से व्यायाम करते हैं। स्नान के बाद पिताजी आधा घंटा पूजा एवं ध्यान करते हैं। वह अपना सभी काम नियमानुसार करते हैं। जो उन्हें चुस्त एवं स्वस्थ बनाये रखता है।

मेरी तरह उनका जन्म भी दिल्ली में हुआ था। उन्होंने सारा जीवन यहीं बिताया। वह 37 (सैंतिस) वर्ष के हैं। पिताजी हमारे छोटे-से परिवार के मुखिया हैं। वह बहुत दयालु हैं एवं सदैव जरूरतमंदों की सहायता को तत्पर रहते हैं। वह पढ़ाई में मेरी मदद करते हैं, हमें कहानियाँ सुनाते हैं और हमारे संग खेलते हैं। वह घर के बहुत-से कार्यों में माँ की भी मदद करते हैं। पिताजी हमें और हम उन्हें बहुत प्यार करते हैं।

Leave a Reply